close this ads

New Delhi Kalibari

Updated: Nov 02, 2015 18:23 PM
About | Timing | Photo Gallery | Map
नई दिल्ली कालीबाड़ी (New Delhi Kalibari) - Mandir Marg, Delhi 110001
नई दिल्ली कालीबाड़ी (Bengali: নতুন দিল্লী কালীবাড়ি, New Delhi Kalibari) the center for Bengali culture in New Delhi, A most oldest Maa Kali temple in Delhi-NCR.

One acre land of Goddess Kali with a pratima (idol) resembling the one at Kalighat Kali Temple in Kolkata. The mandir committee was formalized in 1935 with Subhas Chandra Bose as the first president, and the first Mandir Building was inaugurated by Sir Manmatha Nath Mukherjee.

Read Also:
» Famous Kalibari Temples

Information

Timing
5:15 AM - 1:00 PM, 4:30 PM - 10:30 PM
Arti
5:20 AM, 6:10 PM
Dham
Shivling with Lord Shiv Family
Peepal Tree
Tulsi Plant
Basic Services
Drinking Water, Prasad, Puja Samagri, Shoe Stores
Charitable Services
Rakshit Library, Reading Room, Dharmshala
Founded
1930
Address
Mandir Marg, Delhi 110001
Photography
No (It's not ethical to capture photograph inside the temple when someone engaged in worship! Please also follow temple`s Rules and Tips.)
Coordinates
28.630428°N, 77.197356°E
स्वच्छ भारत अभियान - Swachh Bharat Abhiyan

Photo Gallery

Photo in Full View
Main Shikhar
Main Shikhar
Welcome Board
Welcome Board
Main Entry gate 2
Main Entry gate 2
Full View
Full View
Both Shikhar
Both Shikhar
Aegle marmelos, Bael, Golden Apple, Stone Apple, Wood Apple, Bhel Tree
Aegle marmelos, Bael, Golden Apple, Stone Apple, Wood Apple, Bhel Tree
Top of the Main Shikhar
Top of the Main Shikhar
Main Entry gate 2
Main Entry gate 2
Highest Point of Main Shikhar
Highest Point of Main Shikhar

New Delhi Kalibari on Map

http://npsin.in/mandir/new-delhi-kalibari
Shri Krishna Pranami MandirShri Krishna Pranami Mandir
A center of Nijanand Sampraday श्री कृष्ण प्रणामी मंदिर (Shri Krishna Pranami Mandir), Rohini Delhi. A golden history of 3060 kanya vivah, 30k free polio upchar and organized 33 Gaushala.
पत्तल में खाने के महत्व
» पलाश के पत्तल में भोजन करने से स्वर्ण के बर्तन में भोजन करने का पुण्य व आरोग्य मिलता है।
» केले के पत्तल में भोजन करने से चांदी के बर्तन में भोजन करने का पुण्य व आरोग्य मिलता है।
मटके के पानी के फायदे!
» इस पानी को पीने से थकान दूर होती है।
» इसे पीने से पेट में भारीपन की समस्या भी नहीं होती।
» मटके की मिट्टी कीटाणुनाशक होती है जो पानी में से दूषित पदार्थो को साफ करने का काम करती है।
हाथ-पैरों में आने वाले ‪पसीने‬ का उपचार
आँवला चूर्ण एवं पिसी हुई मिश्री बराबर मात्रा मे मिलाकर प्रतिदिन सुवह - शाम 1-1 चम्मच सेवन करने से कुछ समय मे ही, हाथ की हथेली और पैरों के तलवों से आने वाले पसीने की समस्या मे लाभ मिलता है...
गर्मियों में हाथ पैरों में अकड़ाहट
इसलिए प्याज के रस को गुनगुना करके हथेलियों और पैर के तलवों की मालिश करने से अकड़ाहट मे लाभ मिलता है...
स्वच्छ भारत अभियान - Swachh Bharat Abhiyan
^
top