close this ads

अधूरा पुण्य - Adhura Punya

अधूरा पुण्य - Adhura Punya
दिनभर पूजा की भोग, फूल, चुनरी, आदि सामिग्री चढ़ाई - पुण्य
पूजा के बाद, गन्दिगी के लिए समान पेड़/नदी के पास फेंक दिया - अधूरा पुण्य
क्या प्रभु आपसे खुश हुए होंगे?

मंदिर गये विधिवत पूजा-अर्चना की - पुण्य
ज़ूते-चप्पल अ-व्यवस्थित जहग उतारे - अधूरा पुण्य

लाखों का निमंत्रण किया, हज़ारों को भोज कराया - पुण्य
और खाना निम्न क्वालिटी का खिलाया, या सफाई का ध्यान नहीं दिया - अधूरा पुण्य

जागरण / भगवत-कथा की, लोगों को भोज कराया - पुण्य
रोड पे टेंट लगा कर लोगों को असुविधा की... टेंट लगाने के लिए रोड पे होल / खुआई की - अधूरा पुण्य

त्योहार मनाए, गिफ्ट और मिठाइयाँ बांटी, लोगों का अभिवादन किया - पुण्य
पटाखे से प्रदूषण किया, गंदगी फैलाई, ट्रॅफिक अव्यवस्था फैलाई - अधूरा पुण्य

आपने भंडारा किया हज़ारों को खाना खिलाया - पुण्य
पर प्लेट्स गंदगी के लिए छोड़ दिए - अधूरा पुण्य

जानवरों पे उपकार किया, उनको पाला, सेवा की - पुण्य
पर उनसे सड़क / गली मे गंदगी करा दी - अधूरा पुण्य

मंदिर गये फूल चढ़ाए, पकवान चढ़ाए - पुण्य
पॉली-बेग, बेकार खाली डब्बे वहीं छोड़ दिए - अधूरा पुण्य
क्या प्रभु आपसे खुश हुए होंगे?

नारियल फोड़े, लोगों मे बाँटे, पूजा की - पुण्य
पर नारियल का कूड़ा वही छोड़ दिया - अधूरा पुण्य

कार छोड़ कर मेट्रो का सफ़र चुना - पुण्य
मेट्रो मे ही खाना पीना शुरू किया - अधूरा पुण्य

अपने पुण्य को अधूरा ना छोडे, पुण्य पूरा ही करें...
स्वच्छ भारत अभियान - (एक नहीं) दो कदम स्वच्छता की ओर !!
- Nitin Pratap Singh
अधूरा पुण्य - Adhura Punya
दिनभर पूजा की भोग, फूल, चुनरी, आदि सामिग्री चढ़ाई - पुण्य
पूजा के बाद, गन्दिगी के लिए समान पेड़/नदी के पास फेंक दिया - अधूरा पुण्य
अपने पुण्य को अधूरा ना छोडे, पुण्य पूरा ही करें...
Say NO to Plastic Bags!
ग़लत सोच: कोई आइटम हाथ मे अच्छा नही लगता, इस लिए पॉलिबॅग मे डाल लेते हैं।
सही सोच: पॉलिबॅग हाथ मे अच्छा नही लगती, इसलिए आइटम हाथ मे ही ले लेते हैं।
RSS की देशहित गतिविधियाँ
हिंदू कैलेंडर के मुताबिक नव वर्ष की शुरुआत चैत्र मास की शुक्ल प्रतिपदा से होती है। इसे हिंदू नव संवत भी कहते हैं। माना जाता है कि, भगवान ब्रह्मा जी ने इसी दिन सृष्टि की रचना शुरू की थी।
Sarthak Event Management
सस्ते दामो पर घरेलू उपयोगी वस्तुएं, कपडे, सौन्दर्य सामग्री, आने वाले त्योहारों का सामान, आयुवेदीक जैसे पतंजलि आदि के प्रोडक्ट्स साथ ही बैंकिंग - इंश्योरेंस, आदि से जुड़ी सेवाओं का अवसर प्रदान करें।
Chandra Laxmi
Corridor in Chandra Laxmi Hospital
वाह रे, टॉलरेंट इंडिया!
जिस देश मे उनकी बीबी को, डर है
उस देश ने, उनके पति को हीरो बना दिया
My Annadata, My Kisan
ऐ दिल्ली वालो, जब लगाई आग, किसान के पेट मे तुमने?
तो कोई नहीं बोला...
...ये करवा चौथ का चाँद
काश! कल, अगर ये प्रदूषण ना फैलाया होता..
तो... ये करवा चौथ का चाँद, आज टाइम से ही दिख रहा होता।
Mann Ki Baat
मन की बात (Mann Ki Baat) is an Indian radio programme hosted by the Prime Minister Narendra Modi in which he freely addresses to the people of nation on radio, DD(Doordarshan) National and DD News.
Icc Cricket World Cup
The ICC Cricket World Cup is the international championship of One Day International(ODI) cricket. The event is organised by the sport's governing body, the International Cricket Council(ICC), with preliminary qualification rounds leading up to a finals tournament held every four years.
Shri Krishna Pranami MandirShri Krishna Pranami Mandir
A center of Nijanand Sampraday श्री कृष्ण प्रणामी मंदिर (Shri Krishna Pranami Mandir), Rohini Delhi. A golden history of 3060 kanya vivah, 30k free polio upchar and organized 33 Gaushala.
मसखरी - Maskhari
ऐसा लग रहा है कि विजय माल्या रॉयल चैलेंजर्स बंगलौर टीम के खिलाडियों का पैसा भी दबा कर भगे हैं , आईपीएल में उन बेचारों का मारे अफ़सोस के परफॉरमेंस ही बिगड़ गया 🙂
घुरपेँच - Ghurpainch
आज लोगों को कब Sorry, Excuse Me, Thank You बोलना है, पता है।
पर सामने-वाले को हिन्दी मे आप (तू नहीं) बोलना होता है, बस ये नहीं पता।
मेरा नमस्ते कहना...
X ने Y को कहा, कि मेरा प्रणाम Z को बोलना...
अतः X चाहते हैं कि Y, Z को आज एक बार और प्रणाम करें।
अर्थात Y, Z से आज, एक बार और विनम्रता पूर्वक संवाद स्थापित करें।
कटप्पा ने बाहुबली क्यों मारा?
कटप्पा ने बाहुबली क्यों मारा?
...भारत को! ये जानना ज़्यादा इम्पोर्टेंट है क्या...?
कटी मेरी पतंग मांझे के हाथों ही...
कटी मेरी पतंग मांझे के हाथों ही, हमें फ़र्क़ था माझे पर नाज था!!
डूवी मेरी कश्ती पतवार के हाथो ही, हमें फ़र्क़ था पतवार पर नाज था!!
पत्तल में खाने के महत्व
» पलाश के पत्तल में भोजन करने से स्वर्ण के बर्तन में भोजन करने का पुण्य व आरोग्य मिलता है।
» केले के पत्तल में भोजन करने से चांदी के बर्तन में भोजन करने का पुण्य व आरोग्य मिलता है।
मटके के पानी के फायदे!
» इस पानी को पीने से थकान दूर होती है।
» इसे पीने से पेट में भारीपन की समस्या भी नहीं होती।
» मटके की मिट्टी कीटाणुनाशक होती है जो पानी में से दूषित पदार्थो को साफ करने का काम करती है।
हाथ-पैरों में आने वाले ‪पसीने‬ का उपचार
आँवला चूर्ण एवं पिसी हुई मिश्री बराबर मात्रा मे मिलाकर प्रतिदिन सुवह - शाम 1-1 चम्मच सेवन करने से कुछ समय मे ही, हाथ की हथेली और पैरों के तलवों से आने वाले पसीने की समस्या मे लाभ मिलता है...
गर्मियों में हाथ पैरों में अकड़ाहट
इसलिए प्याज के रस को गुनगुना करके हथेलियों और पैर के तलवों की मालिश करने से अकड़ाहट मे लाभ मिलता है...
तलवों मे जलन को दूर करें
गुनगुने पानी मे एक चम्मच सरसों का तेल डालकर दोनो पैर दस मिनट के लिए इसमें डुबाकर रखें...
स्वच्छ भारत अभियान - Swachh Bharat Abhiyan
^
top